Yoga Importance In life

Yoga Importance In life In Hindi

नमश्कार दोस्तों मैं हूँ Shubham आप सभी का स्वागत करता हूँ इस Blog पर और हमेशा की तरह एक नए Article के साथ आपके लिए हाजिर हूँ। “International Yoga Day” योग साधना एक ऐसी साधना है जिसे आजमाकर आदमी हर वो चीज पा सकता है।

जिसे पाने की वह सोचता है ऐसे ही योग साधना द्वारा कि जाने वाली कुछ रोचक बाते आपको बताता हूँ जिसके जरिये आप भी अपने हिसाबसे कुछ सिख कर अपने जीवन में अपना कर सुखरूप और सदैव चेतन रह सकते है।

इसी बात को ध्यान में रखते हुए आज “International Yoga Day” है मेरे Blog के सभी पाठको को योगदिवस की हार्दिक शुभकामनाए चलिए ज्यादा समय न लेते हुए सीधा मुद्दे पर आता हूँ।



योगसाधना क्यों करें ?

अक्सर यह प्रश्न काफी लोगो को सताता है और मजे की बात तो ये है की यह प्रश्न का उत्तर हर एक आदमी को पता भी रहता है लेकिन फिर भी मनुष्य आलस्य के कारन इस दुविधा में फसा रहता है और वह ठीक से योगसाधना कर नहीं पाता।

योगसाधना इसलिए करनी चाहिए ताकि आपका स्वास्थ्य हमेशा तंदुरुस्त रहे ताकि आप छोटे रोगो से लेकर बड़े रोगो तक नियुक्ति पा सको। साथ ही आपके जीवन में खुशहाली हो और आपका भौतिक जीवन वैवाहिक जीवन सुजल हो, योगसाधना इसलिए करनी चाहिए ताकि आपकी वैचारिक क्षमता में बढ़ावा मिले ताकि आप हर कोई काम आसानी से कर सको।




योगसाधना से क्या मिलता है ?

जैसे मैंने अभी अभी बताया की आप तंदुरुस्त रह सकते हो और आपकी रोगप्रतिकारक शक्ति बढ़ सकती है और आपका जीवन सफल एवं सुजल हो सकता है।

योगसाधना हमेशा से भारत देश का प्रतिक रही है। दुःख की बात तो ये है की विदेशी पर्यटक इस योगसाधना को बड़ी गहराई से समझते हुए अपने जीवन को सुजल बनाने में लगे है लेकिन वही दूसरी तरफ देखा जाए तो भारतीय नौजवान इस बात से अभी भी वंचित है।



हमारी ही संस्कृति और हमारी ही साधना लेकिन हम ही उसका ठीक तरह से फायदा न उठाये तो इससे फूटी किस्मत हमारी हो ही नहीं सकती; खैर आखीर अपनी-अपनी Choice होती है।

भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदीजी ने 21 जून को योग दिवस “International Yoga Day” को अंतर दर्जा प्राप्त कर के दिया है। ताकि योगसाधना का लाभ भारत देश के साथ-साथ अन्य देश भी इसे जाने पहचाने और अपने जीवन में उतार कर उसे सफल एंव सुजल बनाए।

यह प्रस्ताव श्री नरेंद्र मोदी जी द्वारा संयुक्तराष्ट्र में रखा जाने के बाद इस प्रस्ताव को 177 देशो ने मान्यता दी तभी  से 21 June को हर साल योगदिवस “International Yoga Day” मनाया जाता है।





इस योगसाधना का प्रमाण श्रीमद्भगवतगीता में द्वितीय अध्याय के पचासवे श्लोक में भी है। जिसे भगवान श्रीकृष्ण ने स्वयं अपने मुखारविंद से कहा है। जिससे आप अनुमान लगा सकते है की यह कितना महत्वपूर्ण है अपने लिए।

“बुद्धियुक्तो जहातीह उभे सुकृतदुष्कृते। तस्माद्योगाय युज्यस्व योग: कर्मसु कौशलम्”।।२.५०।।

इस श्लोक को विस्तृत करना चाहे तो “योग: कर्मसु कौशलम” यानी आसान भाषा में इसे आपके सामने रखने की कोशिश करु तो इसका अर्थ यह होता है की ‘कर्मो में दक्षता एवं कुशलता ही योग है’ 




आपको कितनी भी बड़ी बिमारी क्यों ना हो इस योगसाधना को नियमित करने से आपकी सारी बिमारिया दूर हो सकती है बस शर्त है की इसे नियमित करते रहना चाहिए।

इसे करने का कोई फिक्स समय नहीं है लेकिन उचित है की आप इसे सुबह-सुबह ही करे ताकि आपका Mind दिनभर Fresh रहे और हमेशा कोई भी काम करना चाहे Daily Life में चाहे वह Office हो या घर के काम वह काम आप पूरी कुशलता से कर सको।

यह सब Benefits आप योगसाधना द्वारा उठा सकते हो। इसी के साथ एक बार फिर आपको योगदिवस ‘International Yoga Day’ की हार्दिक शुभकानाए और आप अपने जीवन में सफल हो यही आशा व्यक्त करता हूँ और मेरे शब्दों को यही रोखता हूँ धन्यवाद।

About Shubham Zope

Hello guys i am shubham from mumbai. i am founder and chief editor of taginlife

View all posts by Shubham Zope →

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *